रविवार, 22 जुलाई 2012

चोर हूँ मैं


चोर हूँ मैं


पिछले कुछ सालों से बीमार हूँ
एक अजीब सी लत लगी है मुझे
चोरी की
जब भी कहीं भी किसी को देखती हूँ
मेरी बीमारी उकसाती है मुझे
मन पक्का करती हूँ
फिर भी मजबूर हो जाती हूँ
चुराने को
और फिर....
चुरा लेती हूँ..
अपनी ऑंखें सबसे
पिछले कुछ समय से जुटा पाई हूँ
कुछ साहस
मिलती हूँ सबसे
मिलाती हूँ ऑंखें
करती हूँ बातें
फिर भी जाने का नाम नहीं लेती
चोरी की ये आदत
हर रोज कहीं भी कैसे भी
कुछ भी कर के
चुराती हूँ, छुपाती हूँ,
चाती हूँ सबसे
सिर्फ अपने लिए
नहीं बनाती किसी को भी
अपना सहभागी यहाँ
नहीं बाँटती चोरी का ये माल
किसी के भी साथ
बैठती हूँ अपने साथ,
खाती हूँ अपने साथ,
समय बिताती हूँ अपने साथ
हाँ मैं एक चोर हूँ
चुराती हूँ हर रोज
थोड़ा थोड़ा समय
अपने अपने और
सिर्फ अपने लिए.

36 टिप्‍पणियां:

  1. रचना अच्छी है...पर मन आहत हो गया !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा करती हैं आप , अपने लिए समय देना बेहद आवश्यक है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने लिए तो समय निकलना ही चाहिए .
    लेकिन अपने में सिमट कर नहीं रह जाना चाहिए .

    दिल के सच्चे उद्गार .

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुखर व प्रखर अभिव्यक्ति ......काव्य की मर्म के साथ भवनिष्ठता प्रशंसनीय है ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. काश ऐसा चोर हर कोई बन सके .... अपने लिए थोड़ा वक़्त चुरा सके और कर सके आत्ममंथन ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत गहरी बात कह दी आपने ..
    प्रभावपूर्ण रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने लिए समय निकालना बहुत जरुरी होता है .... प्रखर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  8. अपने आप को भी समय देना जरुरी है..
    बहुत अच्छी वस्तू चुराती है आप..
    गहरे भाव लिए बेहतरीन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपने लिए भी समय निकालना बहुत जरुरी है..अच्छी प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब थोड़ी सी डकैती भी हो जाए ! ... :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. रोचक अंदाज़ से कही मन की बात ...थोड़ा समय अपने लिये चुराना नितांत आवश्यक है ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये एक ऐसी चोरी है जो जरूर करनी चाहिए ... अपने लिए समय जरूर निकालना चाहिए किसी भी हालात में ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन में अपने लिए वक़्त चुराना जरूरी है , जो ऐसा नहीं कर पाते हें वे अपने जीवन में बहुत कुछ खो देते हें. जिसकी भरपाई फिर कभी नहीं हो सकती है.
    --

    उत्तर देंहटाएं
  14. Aap bahut achha kartee hain....kaash! Samay rahte aisee choree maine bhee kee hoti!

    उत्तर देंहटाएं
  15. सच है ...समय तो यूँ चुराना ही पड़ता है अपने लिए .....

    उत्तर देंहटाएं
  16. नमस्कार !
    आपकी चोरी अच्छी लगी :)
    आत्ममंथन के लिए जरुरी है ये चोरी ...
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत अच्छा करती हैं....
    जहाँ हक़ न मिले वहाँ लूट सही...............

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  18. कुछ करने के लिए समय निकालना ही पडता है,,,

    बहुत बढ़िया प्रस्तुती, सुंदर रचना,,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: आदर्शवादी नेता,

    उत्तर देंहटाएं
  19. अपने लिये वक्त चुराना पडता है अगर वैसे ना मिले । अलग सी कविता, पसंद आई ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. समय चुराती है
    फिर सबको बताती है
    सब चोर रहे हैं
    समझ नहीं पाती है
    कोई समय चोर रहा है
    कोई बेसमय चोर रहा है !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. बड़ा भला यह चोर है, बाकी सभी छिछोर ।

    धन दौलत हीरे रतन, लालच रहे अगोर ।

    लालच रहे अगोर, चोर यह चोरा चोरी ।

    चोर-गली से जाय, चुराए समय कटोरी ।

    चम्मच से चुपचाप, अकेले पान करे है ।

    यह चोरित अनमोल, चीज को पास धरे है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  22. ज़ायज़ है यह चोरी ... बेहद सशक्‍त अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. ~एक अलग सा ख़याल...~ अच्छा लगा !:)
    "जब भी करना चाहूं मैं चोरी....खुद कहीं खो सी जाती हूँ..,
    ढूँढने निकलती हूँ खुद को...मगर रस्ता ही भूल जाती हूँ..." :((

    उत्तर देंहटाएं
  24. वाह .........बहुत ही गहरी बात कही आपने

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत अच्छी जानकारी.हमेशा की तरह अच्छी पोस्ट की है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  26. यह चोरी तो डंके की चोट पर है! मतलब चोरी सही है।

    उत्तर देंहटाएं
  27. इस तरह की चोरी बहुत ज़रूरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  28. ये चोरी तो सब को ही करनी चाहिये। अकसर लोग बडी बडी चोरियाँ करते हुये खुद को ही भूल जाते हैं। बहुत खूब बात कही।

    उत्तर देंहटाएं
  29. अपने आप को भी समय देना जरुरी है.

    गहरे भाव लिए बेहतरीन रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  30. निराले अंदाज में निराली रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेहद प्यारी लगी ये आपकी चोरी की आदत

    उत्तर देंहटाएं
  32. ek bar is aadat ko chhod k to dekhiye aur khud ki chadar se bahar nikal jara apne apno se miliye....fir dekhiye ye duniya aur bhi acchhi lagne lagegi aur chori karna to waise bhi buri baat hai. waqt rahte sambhal jaiye.....varna.....(log apko apna nahi kahenge) ha.ha.ha.

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत ही सुंदर समीक्षा ...
    हार्दिक बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...